रायसेन में भी कोरोना (CORONA) का पेशेंट मिला है. उसे भोपाल (BHOPAL) रैफर कर दिया गया है. ये मरीज एक दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती हुआ था. उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही कलेक्टर ने शहर में कर्फ्यू (CURFEW) लगा दिया है. पेशेंट के घर के आसपास पुलिस (POLICE) लगाकर पूरा इलाका सील कर दिया गया है. उसके परिवार और संपर्क में आए लोगों की जांच की जा रही है. युवक का कनेक्शन मदरसे से है.

कोरोना का ये मरीज़ जहां वो काफी भीड़-भाड़ वाला क्षेत्र है. पुलिस ने शहर में अनाउंसमेंट कर लोगों को कोरोना से बचाव के लिए आगाह किया है. वो बार बार अपील कर रही है कि लोग अपने घरों से ना निकलें.संक्रमित मरीज़ मिलने के बाद से ही प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया है. कलेक्टर ने बिना कोई देर करते हुए जिले में कर्फ्यू कि घोषणा कर दी. कलेक्टर एसपी दोनों ने शहर की सड़कों पर निकल कर सभी को हिदायत दी कि अपने घरों से बाहर न निकलें.

चाय की दुकान चलाता है युवक

कोरोना पॉजीटिव पाया गया युवक शहर में चाय की दुकान चलाता है. लॉक डाउन के बाद से उसकी दुकान बंद है. ऐसे में उसके संक्रमित होने के कारणों का पता लगाना चुनौती होगा. 

मदरसे से कनेक्शन

अस्पताल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना पॉजीटिव पाए गए युवक की कोई ट्रेवल हिस्ट्री अभी नहीं मिली है. वह खुद कहीं बाहर जाने की बात से इंकार कर रहा है. लेकिन यह भी पता चला है कि युवक की पत्नी किसी मदरसा में पढ़ाने जाती है. उसी मदरसा में भोपाल से कुछ लोग भी पढ़ाने आते हैं. ऐसे में पीड़ित युवक की पत्नी के भी संक्रमित होने की आशंका है.

मेल वॉर्ड में भर्ती था युवक

कोरोना पीड़ित ये पेशेंट पुरुषों के जनरल वॉर्ड में भर्ती था. रात में ड्यूटी पर पहुंचे डॉक्टर ने उसकी हाल देख कर उसे आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कराया और सेंपल लेकर जांच के लिए भेजा. उसकी रिपोर्ट बुधवार शाम को मिलते ही हड़कंप मच गया. सर्दी, जुकाम और सीने में दर्द की शिकायत करने वाले व्यक्ति को मेल वार्ड में भर्ती करना एक बड़ी चूक रही.

अन्य मरीजों में भय

जिस वॉर्ड में कोरोना संक्रमित व्यक्ति को भर्ती किया गया था, उस वॉर्ड में अन्य मरीज भी भर्ती थे. अब सब डरे हुए हैं कि कहीं उनमें भी तो संक्रमण नहीं फैल गया.