इंदौर. देश भर में जारी कोरोना (Corona) के कहर से मध्य प्रदेश भी अछूता नहीं है. सूबे में दिनों दिन कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. प्रदेश में बुधवार तक 397 पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं और इनमें से 30 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं केवल इंदौर में ही 213 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं जिनमें से 21 की मौत हो चुकी है. इसके विपरीत 14 लोग ऐसे भी रहे जो इलाज के बाद ठीक हो गए हैं.

किन जिलों में कितने पॉजिटिव
मध्य प्रदेश के जिलों में लगातार बढ़ रहे कोरोना पॉजि‌टिव मामलों के बाद अब प्रशासन सख्त हो गया है और कई शहरों को पूरी तरह से सील कर दिया गया है. अब तक इंदौर में 213, मुरैना में 13, उज्जैन में 15, जबलपुर में 9, भोपाल में 94, ग्वालियर में 6, शिवपुरी में 2, खरगोन में 12, छिंदवाड़ा में 2, बड़वानी में 12, विदिशा में 2, बैतूल में 1, होशंगाबाद में 6, श्योपुर, रायसेन, खंडवा और धार में एक-एक पॉजिटिव मामले सामने आए हैं.

तीन शहर पूरी तरह सील


कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने सख्त कदम उठाते हुए प्रदेश के तीन प्रमुख शहरों को सील कर दिया है. भोपाल, इंदौर और उज्जैन पूरी तरह से सील रहेंगे. इन तीन जिलों से लोगों के बाहर आने-जाने पर पूरी तरह रोक रहेगी. इसी के साथ प्रदेश के 14 जिलों में टोटल लॉकडाउन रहेगा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में कोरोना के हालात को देखते हुए भोपाल, इंदौर और उज्जैन को सील करने का आदेश दिया. इन तीनों जिलों की सीमाएं सील रहेंगी. यहां रहने वाले लोग अब अपने जिले से बाहर कहीं भी नहीं आ जा सकेंगे.

जरूरी सामान की सप्लाई जारी रहेगी.
इस दौरान इन जिलों में जरूरी सामान की सप्लाई जारी रहेगी. आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करना जिला प्रशासन की जवाबदारी रहेगी. सरकार ने ये भी फैसला किया कि कोरोना बीमारी को जान बूझकर छुपाने वाले व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर और दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी.