कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को आवंटित लोधी एस्टेट के बंगला नंबर 35 का विवाद काफी बढ़ गया है। प्रियंका ने बुधवार को उन रिपोर्ट्स का खंडन किया था जिनमें कहा गया था कि उन्होंने कुछ और दिन की मोहलत मांगी थी। महासचिव का कहना है कि उन्होंने सरकार से ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है।

प्रियंका का कहना है कि वह सरकार के निर्देशानुसार एक अगस्त तक सरकारी बंगला खाली कर देंगी। प्रियंका के ट्वीट के बाद केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दावा किया है कि उनके पास प्रियंका की पैरवी के लिए एक कांग्रेसी नेता का फोन आया था। उन्होंने बताया कि फोन करने वाले नेता ने किसी और कांग्रेसी नेता के नाम पर बंगला आवंटित करने को कहा था ताकि प्रियंका वहां रहना जारी रख सकें।
 

कांग्रेस नेता का आया फोन: हरदीप सिंह पुरी
केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा, 'तथ्य अपने लिए खुद बोलते हैं। पार्टी में बहुत अधिक दबदबे वाले एक शक्तिशाली कांग्रेस नेता ने मुझे 4 जुलाई 2020 को दोपहर 12:05 बजे फोन किया और अनुरोध किया कि 35, लोधी एस्टेट वाले बंगले को किसी अन्य कांग्रेसी नेती के पास पर आवंटित कर दिया जाए ताकि प्रियंका वाड्रा वहां रह सकें। कृपया सब कुछ सनसनीखेज न करें।'

प्रिंयका मे कहा- फेक न्यूज
इससे पहले प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, 'यह फर्जी खबर है। मैंने सरकार से कोई आग्रह नहीं किया है। आवास खाली करने के लिए एक जुलाई को मिले पत्र के अनुसार, मैं एक अगस्त तक सरकारी आवास 35 लोधी एस्टेट को खाली कर दूंगी।'


खबर में दावा प्रियंका ने सरकार से मांगा समय
प्रियंका गांधी ने मंगलवार को उस खबर को ‘फर्जी’ करार दिया जिसमें दावा किया गया था कि प्रियंका के आग्रह पर सरकार ने उन्हें इस अवास में कुछ और समय तक रहने की अनुमति दे दी है। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, प्रियंका पार्टी की उत्तर प्रदेश प्रभारी होने की वजह से अब ज्यादा समय राज्य में बिताएंगी और लखनऊ में गोखले मार्ग स्थित शीला कौल के आवास में रहेंगी। यह मकान खाली पड़ा है और फिलहाल इसकी मरम्मत और रंगाई-पुताई का काम चल रहा है। शीला कौल देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की भाभी थीं। वह केंद्रीय मंत्री औेर राज्यपाल भी रहीं। साल 2015 में उनका निधन हो गया था।